ज़रूर पढ़िए- नोटों के बंडलों से भरे तीन ट्रकों का किया है राज़

तिरूपुर

सोमवार को तामिल नाडू में चुनाव होना है और उस के दो दिन पहले आज तिरुपुर में चुनाव आयोग ने नोटों के बंडलों से भरे तीन ट्रकों को ज़ब्त कर लिया है। बतया जा रहा है कि इन ट्रकों में 570 करोड़ रुपये कैश हैं। पहले जब चुनाव आयोग के दस्ते ने इन ट्रकों को रोका तो ये नहीं रुके जिससे चुनाव आयोग का शक गहराया और फिर आगे जाकर इन ट्रकों को रोका गया।

सूत्रों के अनुसार माना जा रहा कि इन पैसों का इस्तेमाल चुनाव में होना था। बता दें कि 16 मई को होने वाले चुनाव के नतीजे 19 मई को आने हैं।

बतया जा रहा है कि चुनाव आयोग की फ्लाइंग स्कवॉड और अर्द्ध सैनिक बलों के जवान पेरुमन्नालूर-कुन्नाथूर बाईपास पर वाहनों का रूटीन चैकअप कर रहे थे। इसी दौरान वहां से तीन ट्रक गुजरे जिन्हें तीन कारें एस्कॉर्ट कर रही थीं। रुकने की बजाए तीनों ट्रक और कारें वहां से तेज रफ्तार में आगे की ओर भाग गईंI लेकिन पुलिस ने उनका पीछा करते हुए उन्हें अपने कब्जे में ले लिया। ट्रकों की जब चेकिंग की गई तो जांच के दौरान ट्रकों में रखे बक्से मिले। इनमें 570 करोड़ रुपए थे। ट्रकों के ड्राइवरों से अधिकारियों ने पूछताछ की। ड्राइवरों का कहना है कि राशि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की है और इसे आंध्र प्रदेश में बैंक की शाखाओं को ट्रांसफर किया जा रहा था।

कारों में सवार लोगों ने दावा किया कि वे आंध्र प्रदेश के पुलिसकर्मी हैं लेकिन वे यूनिफॉर्म में नहीं थे। उन्होंने अधिकारियों को बताया कि वे कोयम्बटूर से स्टैट बैंक ऑफ इंडिया से लाई राशि को विशाखापट्टम में बैंक की शाखाओं को ट्रांसफर कर रहे थे। जब ड्राइवरों से पूछा गया कि रूकने की बजाय वे भाग क्यों रहे थे तो उन्होंने बताया कि उन्हें डर था कि ये लूट का अटेंम्प हो सकता है। उन्हें पता नहीं था कि अधिकारी चुनाव विभाग से हैं।
ड्राइवर अपने दावों के पक्ष में सही दस्तावेज प्रस्तुत नहीं कर पाए। इसके बाद वाहनों को जब्त कर लिया गया और उन्हें तिरूपुर में डिस्ट्रिक्ट कलेक्ट्रेट ले जाया गया। वहीं चुनाव आयोग ने मामले की जांच के लिए समिति बनाई है। मुख्य चुनाव अधिकारी राजेश लखोनी ने बताया कि वाहनों को सीज कर दिया है। अगर दस्तावेज सही पाए जाते हैं तो उन्हें जल्द ही छोड़ दिया जाएगा।


More from NE समाचार