ब्रेस्ट मिल्क फाउंडेशन ने शुरू किया ‘मां के दूध’ का बैंक

नई दिल्ली

क्या आप ने कभी सोचा था कि एक माँ अपना दूध किस्से दुसरे बच्चे के लिए डोनेट कर सकती है और जब चाहे उसे किसी ज़रूरतमंद बच्चे तक पहुंचाया भी जा सकता है। शायद नहीं, लेकिन अब ऐसा मुमकिन हो गया है।

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में पहला ह्यूमन मिल्क बैंक शुरू हुआ है। दिल्ली के ग्रेटर कैलाश के फोर्टिस लाफेम अस्पताल ने स्वयं सेवी संस्था ब्रेस्ट मिल्क फाउंडेशन (बीएमएफ) के साथ मिलकर दिल्ली में ‘मां के दूध’ का  बैंक शुरू किया है।

अस्पताल के मुताबिक अभी तक 10 महिलाएं मिल्क डोनेट करने के लिए आगे आ चुकी है। इस तरह का बैंक पुणे और राजस्थान में पहले से ही चलाया जा रहा है। इस प्रक्रिया में सबसे पहले ऐसी मां को जागरूक किया जाता है। उन्हें बताया जाता है कि अगर आपको दूध ज्यादा आ रहा है तो इसे दूसरे बच्चे की जान बचाने के लिए डोनेट करें।

ब्रेस्ट मिल्क फाउंडेशन ने शुरू किया 'मां के दूध' का बैंक
ब्रेस्ट मिल्क फाउंडेशन ने शुरू किया ‘मां के दूध’ का बैंक

‘अमारा’ नाम के इस ‘ह्यूमैन मिल्क बैंक’ का औपचारिक उद्घाटन किया गया। जबकि पिछले 200 दिन से यहां दूध एकत्र करने और जरूरतमंद बच्चों में बांटने का काम चल रहा है। अस्पातल में ही दूध बैंक बनाया गया है।

इस बैंक की सुविधा लेने और योगदान देने वालों में से एक महिला ने बताया कि जब उनका बच्चा हुआ था तो पहले चार-पांच दिन उनके बहुत कम दूध उतरा। ऐसे में ‘अमारा’ की मदद से उनके बच्चे का पोषण हुआ। लेकिन जब बाद में उनके ज्यादा दूध उतरने लगा तो उन्होंने सोचा क्यों न वह भी दूध दान करके किसी और के बच्चे की जान बचाए  जैसे किसी और के दूध से उनके बच्चे की जान बची है।

दूध दान करने की इच्छुक कोई भी माँ अपना पंजीकरण करवा सकती हैं। पंजीकरण से पहले उनकी स्वास्थ्य जांच की जाती है। इसके बाद उन्हें नि:शुल्क पंपिंग मशीन दी जाती है जिसकी मदद से घर पर ही दूध निकालकर दी गई बोतल में एकत्र कर सकती हैं।

बीएमएफ की मदद से घरों से दूध एकत्र कर अमारा के बैंक में पहले इसकी जाँच की जाती है और फिर उपचारित करके इसे 130 मिलिलीटर की बोतलों में पैक करके  कम तापमान पर संग्रहित किया जाता है। एक बोतल की कीमत 150 से 200 रुपये के बीच आयेगी जो चार बच्चों की एक दिन की खुराक होगी।

भारत में पहला ह्यूमन मिल्क बैंक मुंबई के धारावी में 1989 में खुला था। देशभर के अभी तक कुल 20 मिल्क बैंक है जो मुंबई, पुणे, चेन्नई, हैदराबाद व राजस्थान के एक दो शहरों में खोले गए है। दिल्ली-एनसीआर में पहले ऐसी सुविधा नहीं थी

 


More from NE समाचार